Wednesday, 15 May 2019

तो ऐसे पुरुष संतान उत्पन्न करने के योग्य हो जाता है



बाँझपन

*विवाह संस्कार में गोदान किया जाता है, हाथी दान क्यों नही?*

गाय तो दो सौ रूपये से लेकर हजारो की आ जाती है. हाथी का मूल्य तो लाखो में होता है. भैंस भी महगी है परन्तु भैंस का दान भी नही होता.
*गोदान ही क्यों?*

इसमें एक बहुत बड़ा रहस्य छिपा है.

गौ की सेवा करने से निःसंतानों के संतान पैसा हो जाती है./

*गाय का दूध पीने से, गाय के दही और मक्खन का सेवन करने से, गौ का गोबर और मूत्र उठाने से, गौ को सहलाने से, गाय और बैलो के बाड़े में सोने से, गौमूत्र के पीने से सभी विकार दूर होकर सन्तान उत्पन्न हो जाती है.*

महाराजा दिलीप को नंदिनी गौ की सेवा करने से ही पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई थी.
*जिन पुरुषो के वीर्य में कीट नही हो अथवा कम हो*

*वे तीन मॉस तक प्रतिदिन दो घंटे गौ के गलकंबल (गाय के गले में लटकने वाली खाल) को सहलाए, वीर्य में कीट उत्पन्न होकर पुरुष संतान उत्पन्न करने के योग्य हो जाता है .*

1 comment:

तो ऐसे पुरुष संतान उत्पन्न करने के योग्य हो जाता है

बाँझपन *विवाह संस्कार में गोदान किया जाता है, हाथी दान क्यों नही?* गाय तो दो सौ रूपये से लेकर हजारो की आ जाती है. हाथी का मूल...