Saturday, 17 November 2012

1966 anti-cow slaughter agitation



From Wikipedia, the free encyclopedia
1966 anti-cow slaughter agitation was the agitation by Hindu organisations in 1966 to demand a ban on the slaughter of cows in India, as enshrined in the Directive Principles of State Policy in the Constitution of India. Among others, theShankaracharya fasted for the cause. The agitation culminated in a massive demonstration outside Sansad Bhavan inNew Delhi on 7 November 1966 (As per Hindu Panchang, Vikram Samvat, Kartik Shukla Ashtami, famously known as Gopashtami among Hindus ).
The Prime Minister, Indira Gandhi did not accept the demand for a ban on cow slaughtering. Instead police fired on the peaceful rally, killing many Sadhus in the firing. The Home ministerGulzarilal Nanda, resigned, taking responsibility for the administration's failure to maintain law and order.

Why are cows sacred in India?



In order to understand this, one needs to understand a little about Hinduism.Dharma is considered to have four pillars, like how a cow has four legs. Although many animals have four legs, it is a cow’s four legs that the four pillars of dharma are compared with. What is the reason? From the ancient age in India, people have been drinking cow’s milk, rather than the milk of other animals. Scientifically, it has been proven that cow’s milk can provide us with the greatest amount of health. For example, buffalo milk has a lot of fat and calories. Now, we consider the cow as mother who suckles milk, whether or not she has given birth to that which has her milk. This places the cow in the equivalent position of a mother, as it has been nourishing us with its milk from ancient times in India.
If we peruse the Upanishads or various Puranas (Hindu mythological texts), then we will find that mother earth has been represented as cow or Gau mata/mother cow. When the earth was polluted by the demons in the ancient time, and it became intolerable for the humans to continue their existence, mother earth represented herself as cow and went to the supreme lord and sought help, to save her and her sons and daughters. So, this is another reason for considering cows as sacred.

If cows are so sacred in India, why are they left to roam all over the place, and starve to death?


If cows are so sacred in India, why are they left to roam all over the place, and starve to death?
In answering this question, it’s necessary to keep in mind the socio-economic conditions of Indians. With the passing of time, the values and scriptural mandates have started to gather rust. As a result, they have started to fade away from our day-to-day lifestyle. Cows are holy, but nowadays only few people will come forward to provide them with shelter. People in the cities have no time and space for them. They don’t even have time and space for their old parents, and so thinking about cows would be utter foolishness.
In rural India, you will still find the flavour of ancient India, as cows are still used for agriculture. Certain Hindu religious organizations are also playing an active role in providing safe shelter for them. But still, very little has been done for these holy animals.

Indian Gaushalas: A way for easy money

Indian Gaushalas: A way for easy moneyPDFPrintE-mail
Written by Maneka Gandhi   
Feb 27, 2012 at 09:31 PM
In my constituency in Bareilly I find cows being taken regularly and openly to Rampur to be killed illegally. I have made squads of boys and they started catching the trucks. The cows were given to a local gaushala. This gaushala is on land given by the government and is run by a committee of traders, lawyers and society bigwigs. They are given donations by the local market associations to look after the cows. No one ever checks their work.
One day, I asked the boys to check the health of the cows we had put into the gaushala. They didn't find them. There were some milking cows in a shed. A sweeper told us that the animals were regularly sold to the butchers of Rampur -the people we were saving them from in the first place. There was no doctor, only a few people whose job was to milk the cows and distribute the milk to the traders. The money from the market association went into the pockets of the committee members -as did the thousands of rupees from the cow sale.
These are good Hindus. The ones, who have little mandirs at home, go to the ramlilas and keep the nauratna fasts.
I was furious. I asked the District Magistrate to investigate. No registers of entries were found, slips of sale, registers of food bought, milk taken out, salaries given. The place was filthy.
The DM ordered the committee to be removed and punishment after a formal investigation. They paid the Chief Veterinary Officer who in any case would have given them a clean chit as he had never done his duty by going to the gaushala so he said the cows had probably died. Hundreds of them, and only the non milking ones? The committee members approached the local MLA who kept asking for them to be let off as “everyone makes mistakes". The DM surrendered and said that the Gaushala committee of Lucknow should take a decision. I had an official brought out. She was fed and sent back and till today has not written a report. These worthies are still there. The selling may have stopped - but now they have found another way to steal money. They simply refuse to take in animals.  I will deal with them after the elections.
This is the story of 75% of gaushalas in India.
One of the worst cases is the gaushala in Agra. I have films and photographs of dying cows, their eyes pecked by crows. 500 animals pushed in there. No one makes it beyond a week. The committee has made a marriage house on part of the land and rent it out every day. Huge amounts of noise and filth and the smells of meat emanate from it. The committee pockets the money, takes the milk and the animals die of food, overcrowding and filth.  There is a small enclosure for milking cows and the two employees’ only job is to milk them and deliver the milk to the committee members. Repeated complaints to the Agra Commissioner, inspections, have all resulted in nothing because the head of the committee is the owner of the largest selling Hindi paper in Uttar Pradesh.
In some cases the gaushala is run by the administration themselves as in Indore and the cows do not last more than 2 days. They are caught by the local municipal employees who drag them by their legs into tractors and throw them into the enclosure where they lie there with broken legs till they die. There is no food or water as the man on the desk pockets the amount. The government gaushala in Jaipur during the BJP regime killed 33,000 before the press found out. No one has been penalized till today.
I have received many serious complaints about the Srikrushna Goshala in Jharsuguda, Orissa. The Committee has sold part of the government land for a market complex and pocketed 78 lakhs. Some part has been made into a marriage hall. The cows are not given water and their feed is old. On one day 87 cows died from eating fungus filled chara.  Old cows which are supposed to be kept by the gaushala are thrown on to the road or sold to butchers. In 2005 the gaushala was given Rs 8 .7 lakhs for making a cowshed. Till today the gaushala has no sheds and the cows are exposed to sun and rain. From Kutch I have received a detailed list of irregularities on the hundreds of gaushalas dotting Gujarat. These gaushalas are supported by the state government and receive generous grants from Gujaratis all over the world.
Here are some of the points: I enumerate them because the gaushala in your area probably does the same.
1. The gaushala refuses to take sick and disabled cows or to use an ambulance to rescue these.
2. The gaushala refuses to take buffaloes even though they are exactly the same as cows in giving milk etc. They refuse to take bulls or bullocks.
3. The institution will not keep registers of animals. If they are government aided they increase the number in order to get more grants. If they are unaided, they couldn't be bothered to record their animals
4. Most sell animals supposedly to villagers but these are really middlemen for butchers. The gaushala people pretend that they do not know where the animal is going. No entries are made in any registers about the adopters. Money goes into their pockets.
5. No medical facilities are available. Most gaushalas just have a few attendants. If an animal collapses, it is left there till it dies. Some gaushalas use government vets who come when they have time.
6. No cleaning is done. If the cow dung is sold, it is picked up; otherwise the animals stand in their faeces and urine leading to foot rot.
7. No proper food is given. No one knows how to mix dry hay and green fodder. The gaushala operates on whatever it gets free or least expensive. Thousands of animals die in agony of bloat. Much of the hay is funguses because it is kept for months in unclean godowns. Water is given sparingly and many die of thirst.
8. The gaushala is an overcrowded prison for cows. The cows are kept out in the heat and cold. They die of heat stroke or cold. The sheds are few and used for milking cows only.
9. Most gaushalas convert part of the land given to them into commercial premises and appropriate the money. That is why there is such competition to sit on a gaushala committee.
10. Many companies enter into deals with gaushalas and pretend to contribute vast sums to get the income tax deduction under 80 G or 35 AC. Most of the money is then returned to the “donor" with a small amount kept as transaction fee by the gaushala committee. Many institutions set up gaushalas simply to convert their profits and avoid taxes.
11. Gaushala take agricultural land from the government to grow fodder for the cows. This is either not done or it is used for non-agricultural purposes.
12. Many gaushalas have luxurious marbled living quarters used by the management and as guest houses. They are made out of donations.
13. Many gaushalas take their old cows out supposedly for grazing and then abandon them there. The cows wander into the fields or villages.
When I was minister I made a law that no gaushala was allowed to milk cows. Milking cows would be put with motherless calves. But the gaushalas in Haryana are all large dairies with milking cows and missing calves- which means they have been sold to the butchers. There is a Haryana person who goes from gaushala to gaushala and takes money to inject old cows with a mix of hormones which he guarantees will make them give milk again. He has a line of customers.
Are there any Hindus left in India?
To join the animal welfare movement contact gandhim@nic.in

INDIAN COW

Cows in India are not just animal, but are reverend as one of the icons of the country’s culture and civilization, and are indeed worshipped as “cow-mother”. In the course of their local evolution through the ages, Indian native cows have developed their own characteristics, which are acclaimed by the world for their wonderful properties. Absorbing energy from the sunrays through a “solar pulse” on their back, the native cows yield milk of the highest quality to enhance man’s physical, emotional, mental and spiritual well-being.

Apart from milk, Indian native cows are also valued highly for their urine and dung, which are finding increasing applications in almost every aspect of human life today, and novel products like “cow shampoo”, “cow soap” and “cow insect-/pest-repellents” are now becoming increasingly popular in the country, among health-and-environment-conscious consumers.Native Indian cows have ever lived happily and healthily in the country’s physical and human environments and rendered yeoman service to the country’s economy not only by their milk output, but also by their invaluable aid in ploughing, transportation and several other agrarian operations - all with the least demands on maintenance and investment.

Friday, 9 November 2012

(2) Vrajraj Gaushala

(2) Vrajraj Gaushala

उगरा नियंत्रण

  1. लीटर मट्ठे में चने के आकार के 3 हींग के टुकडे मिलाकर उससे चने का बीजोपचार कर तत्पश्चात बोनी करें। सोयाबीन, उड़द, मूंग एवं मसूर के बीजों को अधिक गीला न करें।
  2. 400 ग्राम नीम के तेल में 100 ग्राम कपड़े धोने वाला पावडर डालकर खूब फेंटे, फिर इस मिश्रण में 150 लीटर पानी डालकर घोल बनावें। यह एक एकड़ के लिए पर्याप्त है।

दीमक नियंत्रण

  1. मक्का के भुट्टे से दाना निकलने के बाद, जो गिण्डीयॉ बचती है, उन्हे एक मिट्टी के घड़े में इक्टठा करके घड़े को खेत में इस प्रकार गाढ़े कि घड़े का मुॅह जमीन से कुछ बाहर निकला हो। घड़े के ऊपर कपड़ा बांध दे तथा उसमें पानी भर दें। कुछ दिनाेंं में ही आप देखेगें कि घड़े में दीमक भर गई है। इसके उपरांत घड़े को बाहर निकालकर गरम कर लें ताकि दीमक समाप्त हो जावे। इस प्रकार के घड़े को खेत में 100-100 मीटर की दूरी पर गड़ाएॅ तथा करीब 5 बार गिण्डीयॉ बदलकर यह क्रिया दोहराएं। खेत में दीमक समाप्त हो जावेगी।
  2. सुपारी के आकार की हींग एक कपड़े में लपेटकर तथा पत्थर में बांधकर खेत की ओर बहने वाली पानी की नाली में रख दें। उससे दीमक तथा उगरा रोग नष्ट हो जावेगा।

इल्ली नियंत्रण

 इल्ली नियंत्रण
  1. 5 लीटर देशी गाये के मट्ठे में 5 किलो नीम के पत्ते डालकर 10 दिन तक सड़ायें, बाद में नीम की पत्तियों को निचोड़ लें। इस नीमयुक्त मिश्रण को छानकर 150 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति एकड़ के मान से समान रूप से फसल पर छिड़काव करें। इससे इल्ली व माहू का प्रभावी नियंत्रण होता है।
  2. 5 लीटर मट्ठे में , 1 किलो नीम के पत्ते व धतूरे के पत्ते डालकर, 10 दिन सड़ने दे। इसके बाद मिश्रण को छानकर इल्लियों का नियंत्रण करें।
  3. 5 किलो नीम के पत्ते 3 लीटर पानी में डालकर उबाल ली तब आधा रह जावे तब उसे छानकर 150 लीटर पानी में घोल तैयार करें। इस मिश्रण में 2 लीटर गौ-मूत्र मिलावें। अब यह मिश्रण एक एकड़ के मान से फसल पर छिड़के।
  4. 1/2 किलो हरी मिर्च व लहसुन पीसकर 150 लीटर पानी में डालकर छान ले तथा एक एकड़ में इस घोल का छिड़काव करें।
  5.  मारूदाना, तुलसी (श्यामा) तथा गेदें के पौधे फसल के बीच में लगाने से इल्ली का नियंत्रण होता हैं।
  6. टिन की बनी चकरी खेतों में लगाने से भी इल्लियां गिर जाती हैं।

Cow Urine (Gau Mutr)

जैविक कीट एवं व्याधि नियंजक के नुस्खे विभिन्न कृषकों के अनुभव के आधार पर तैयार कर प्रयोग किये गये हैं, जो कि इस प्रकार हैं-
  1. गौ-मूत्

    गौमूत्र, कांच की शीशी में भरकर धूप में रख सकते हैं। जितना पुराना गौमूत्र होगा उतना अधिक असरकारी होगा । 12-15 मि.मी. गौमूत्र प्रति लीटर पानी में मिलाकर स्प्रेयर पंप से फसलों में बुआई के 15 दिन बाद, प्रत्येक 10 दिवस में छिड़काव करने से फसलों में रोग एवं कीड़ों में प्रतिरोधी क्षमता विकसित होती है जिससे प्रकोप की संभावना कम रहती है।

    नीम के उत्पाद

    नीम भारतीय मूल का पौघा है, जिसे समूल ही वैद्य के रूप में मान्यता प्राप्त है। इससे मनुष्य के लिए उपयोगी औषधियां तैयार की जाती हैं तथा इसके उत्पाद फसल संरक्षण के लिये अत्यन्त उपयोगी हैं।

    नीम पत्ती का घोल
    नीम की 10-12 किलो पत्तियॉ, 200 लीटर पानी में 4 दिन तक भिगोंयें। पानी हरा पीला होने पर इसे छानकर, एक एकड़ की फसल पर छिड़काव करने से इल्ली की रोकथाम होती है। इस औषधि की तीव्रता को बढ़ाने हेतु बेसरम, धतूरा, तम्बाकू आदि के पत्तों को मिलाकर काड़ा बनाने से औषधि की तीव्रता बढ़ जाती है और यह दवा कई प्रकार के कीड़ों को नष्ट करने में यह दवा उपयोगी सिध्द है।
    नीम की निबोली नीम की निबोली 2 किलो लेकर महीन पीस लें इसमें 2 लीटर ताजा गौ मूत्र मिला लें। इसमें 10 किलो  छांछ मिलाकर 4 दिन रखें और 200 लीटर पानी मिलाकर खेतों में फसल पर छिड़काव करें।

    नीम की खली
    जमीन में दीमक तथा व्हाइट ग्रब एवं अन्य कीटों की इल्लियॉ तथा प्यूपा को नष्ट करने तथा भूमि जनित रोग विल्ट आदि के रोकथाम के लिये किया जा सकता है। 6-8 क्विंटल प्रति एकड़ की दर से अंतिम बखरनी करते समय कूटकर बारीक खेम में मिलावें।
  2. आइपोमिया (बेशरम) पत्ती घोल
    आइपोमिया की 10-12 किलो पत्तियॉ, 200 लीटर पानी में 4 दिन तक भिगोंये। पत्तियों का अर्क उतरने पर इसे छानकर एक एकड़ की फसल पर छिड़काव करें इससे कीटों का नियंत्रण होता है।
  3. मटठा

    मट्ठा, छाछ, मही आदि नाम से जाना जाने वाला तत्व मनुष्य को अनेक प्रकार से गुणकारी है और इसका उपयोग फसलों मे कीट व्याधि के उपचार के लिये लाभप्रद हैं। मिर्ची, टमाटर आदि जिन फसलों में चुर्रामुर्रा या कुकड़ा रोग आता है, उसके रोकथाम हेतु एक मटके में छाछ डाकर उसका मुॅह पोलीथिन से बांध दे एवं 30-45 दिन तक उसे मिट्टी में गाड़ दें। इसके पश्चात् छिड़काव करने से कीट एवं रोगों से बचत होती । 100-150 मि.ली. छाछ 15 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करने से कीट-व्याधि का नियंत्रण होता है। यह उपचार सस्ता, सुलभ, लाभकारी होने से कृषकों मे लोकप्रिय है।
  4. मिर्च/लहसुन

    आधा किलो हरी मिर्च, आधा किलो लहसुन पीसकर चटनी बनाकर पानी में घोल बनायें इसे छानकर 100 लीटर पानी में घोलकर, फसल पर छिड़काव करें। 100 ग्राम साबुन पावडर भी मिलावे। जिससे पौधों पर घोल चिपक सके। इसके छिड़काव करने से कीटों का नियंत्रण होता है।
  5. लकड़ी की राख
    1 किलो राख में 10 मि.ली. मिट्टी का तेल डालकर पाउडर का छिड़काव 25 किलो प्रति हेक्टर की दर से करने पर एफिड्स एवं पंपकिन बीटल का नियंत्रण हो जाता है ।
  6. ट्राईकोडर्मा
    ट्राईकोडर्मा एक ऐसा जैविक फफूंद नाशक है जो पौधों में मृदा एवं बीज जनित बीमारियों को नियंत्रित करता है।
    बीजोपचार में 5-6 ग्राम प्रति किलोगाम बीज की दर से उपयोग किया जाता है। मृदा उपचार में 1 किलोग्राम ट्राईकोडर्मा को 100 किलोग्राम अच्छी सड़ी हुई खाद में मिलाकर अंतिम बखरनी के समय प्रयोग करें।
    कटिंग व जड़ उपचार- 200 ग्राम ट्राईकोडर्मा को 15-20 लीटर पानी में मिलाये और इस घोल में 10 मिनिट तक रोपण करने वाले पौधों की जड़ों एवं कटिंग को उपचारित करें।
    3 ग्राम ट्राईकोडर्मा प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर 10-15 दिन के अंतर पर खड़ी फसल पर 3-4 बार छिड़काव करने से वायुजनित रोग का नियंत्रण होता है।

Green Compost

हरी खाद:-
मिट्टी की उर्वरा शक्ति जीवाणुओं की मात्रा एवं क्रियाशीलता पर निर्भर रहती है क्योंकि बहुत सी रासायनिक क्रियाओं के लिए सूक्ष्म जीवाणुओं की आवश्यकता रहती है। जीवित व सक्रिय मिट्टी वही कहलाती है जिसमें अधिक से अधिक जीवांश हो। जीवाणुओं का भोजन प्राय: कार्बनिक पदार्थ ही होते है और इनकी अधिकता से मिट्टी की उर्वरा शक्ति पर प्रभाव पड़ता है। अर्थात केवल जीवाणुओं से मिट्टी की उर्वरा शक्ति को बढ़ाया जा सकता है। मिट्ट की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने की क्रियाओं में हरी खाद प्रमुख है। इस क्रिया में वानस्पतिक सामग्री को अधिकांशत: हरे दलहनी पौधों को उसी खेत में उगाकर जुताई कर मिट्टी में मिला देते है। हरी खाद हेतु मुख्य रूप से सन, ढेंचा, लाबिया, उड्द, मूंग इत्यादि फसलों का उपयोग किया जाता है।
  1. भभूत अमृत पानी
    अमृत पानी तैयार करने के लिए के लिए 10 किलोग्राम गाय का ताजा गोबर 250 ग्राम नौनी घी, 500 ग्राम शहद और 200 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। सर्वप्रथम 200 लीटर के ड्रम में 10 किलोग्राम गाय का ताजा गोबर डालें उसमें 250 ग्राम नौनी घी, 500 ग्राम शहद को डालकर अच्छी तरह मिलायें# इसके पश्चात ड्रम को पूरा पानी से भर ले तथा एक लकड़ी की सहायता से घोल तैयार करें इस घोल को जब फसल 15 से 20 दिन की हो जावे तब कतार के बीच में 3 से 4 बार प्रयोग करें# इसके प्रयोग के समय मृदा में नमी का होना अति आवश्यक है। अमृत पानी के प्रयोग के पूर्व 15 किलोग्राम बरगद के नीचे की मिट्टी एक एकड़ में समान रूप से बिखेर दें।
  2. अमृत संजीवनी
    एक एकड़ हेतु अमृत संजीवनी तैयार करने के लिये सामग्री में 3 किलोग्राम यूरिया, 3 किलोग्राम सुपर फास्फेट एवं 1 किलोग्राम पोटाश तथा 2 किलोग्राम मूंगफली की खली, 80 किलोग्राम गोबर एवं 200 लीटर पानी की आवश्यकता होती है । इसकों तैयार करने के लिए उक्त सामग्री को एक ड्रम में डालकर अच्छी तरह मिला दें और ड्रम के ढक्कन को बंद कर 48 घंटे के लिए छोड़ दें तथा प्रयोग के समय ड्रम को पूरा पानी से भर दे । जब खेत में पर्याप्त नमी हो तब बोनी के पूर्व इसे समान रूप से एक एकड़ में छिड़क दे। खड़ी फसल में जब फसल 15-20 दिन की हो जावे तब कतार के बीज में 3-4 बार 15 दिन के अंतर पर छिड़के यथा संभव पत्तों को घोल के संपर्क से बचाये।
  3. अग्निहोत्र भस्
    अग्निहोत्र भस्म उच्चारण पर्यावरण की शुध्दि की वैदिक पध्दति है। खेत में, गांव में, घर में तथा शहर में पर्यावरण में स्वच्छता बनाये रखकर सूर्योदय व सूर्यास्त के समय मिट्टी तथा तांबे के पात्र में गाय के गोबर के कंडे में अग्नि प्रज्जवलित कर अखंड अक्षत (बिना टूटे चावल) चावल के 8-10 दानों को गाय के घी में मिलाकर हाथ अंगूठे, मध्य अनामिका व छोटी अंगुली से अग्निहोत्री मंत्र उच्चारण के साथ स्वाहा: शब्द के साथ आहुति दी जाती है।

    अग्निहोत्र मंत्
    सूर्योदय के समय-सूर्याय स्वाहा, सूर्याय इदम् न मम् (प्रथम आहूति के समय)
    प्रजापतये स्वाहा,प्रजापतये इदम् न मम्(द्वितीय आहूति के समय)
    सूर्यास्त के समय-अग्नेय स्वाहा, अग्नेय इदम् न मम् (प्रथम आहूति के समय)
    प्रजापतये स्वाहा, प्रजापतये इदम् न मम्(द्वितीय आहूति के समय)
    खेतों पर अग्निहोत्र मंत्र, पौधों में कीट-व्याधि निरोधकता के साथ भूमि में उपलब्ध पोषण-जैव कार्बन-ऊर्जा का सक्षम उपयोग कर अधिक उत्पादन हेतु प्रेरित करता है।

जैविक खेती से होने वाले लाभ

  1. कृषकों की दृष्टि से लाभ -
    भूमि की उपजाऊ क्षमता में वृध्दि हो जाती है।
    सिंचाई अंतराल में वृध्दि होती है ।
    रासायनिक खाद पर निर्भरता कम होने से कास्त लागत में कमी आती है।
    फसलों की उत्पादकता में वृध्दि।
  2. मिट्टी की दृष्टि से -
    जैविक खाद के उपयोग करने से भूमि की गुणवत्ता में सुधार आता है।
    भूमि की जल धारण क्षमता बढ़ती हैं।
    भूमि से पानी का वाष्पीकरण कम होगा।
  3. पर्यावरण की दृष्टि से -
    भूमि के जल स्तर में वृध्दि होती हैं।
    मिट्टी खाद पदार्थ और जमीन में पानी के माध्यम से होने वाले प्रदूषण मे कमी आती है।
    कचरे का उपयोग, खाद बनाने में, होने से बीमारियों में कमी आती है ।
    फसल उत्पादन की लागत में कमी एवं आय में वृध्दि
    अंतरराष्ट्रीय बाजार की स्पर्धा में जैविक उत्पाद की गुणवत्ताा का खरा उतरना।


    जैविक खेती, की विधि रासायनिक खेती की विधि की तुलना में बराबर या अधिक उत्पादन देती है अर्थात जैविक खेती मृदा की उर्वरता एवं कृषकों की उत्पादकता बढ़ाने में पूर्णत: सहायक है। वर्षा आधारित क्षेत्रों में जैविक खेती की विधि और भी अधिक लाभदायक है । जैविक विधि द्वारा खेती करने से उत्पादन की लागत तो कम होती ही है इसके साथ ही कृषक भाइयों को आय अधिक प्राप्त होती है तथा अंतराष्ट्रीय बाजार की स्पर्धा में जैविक उत्पाद अधिक खरे उतरते हैं। जिसके फलस्वरूप सामान्य उत्पादन की अपेक्षा में कृषक भाई अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आधुनिक समय में निरन्तर बढ़ती हुई जनसंख्या, पर्यावरण प्रदूषण, भूमि की उर्वरा शक्ति का संरक्षण एवं मानव स्वास्थ्य के लिए जैविक खेती की राह अत्यन्त लाभदायक है । मानव जीवन के सवर्ांगीण विकास के लिए नितान्त आवश्यक है कि प्राकृतिक संसाधन प्रदूषित न हों, शुध्द वातावरण रहे एवं पौष्टिक आहार मिलता रहे, इसके लिये हमें जैविक खेती की कृषि पध्दतियाँ को अपनाना होगा जोकि हमारे नैसर्गिक संसाधनों एवं मानवीय पर्यावरण को प्रदूषित किये बगैर समस्त जनमानस को खाद्य सामग्री उपलब्ध करा सकेगी तथा हमें खुशहाल जीने की राह दिखा सकेगी।

    जैविक खादें:-
    1. नाडेप
    2. बायोगैस स्लरी
    3. वर्मी कम्पोस्ट
    4. हरी खाद
    5. जैव उर्वरक (कल्चर)
    6. गोबर की खाद
    7. नाडेप फास्फो कम्पोस्ट
    8. पिट कम्पोस्ट (इंदौर विधि)
    9. मुर्गी का खाद

WARMI COMPOST

केंचुआ कृषकों का मित्र एवं भूमि की आंत कहा जाता हैं। यह सेन्द्रिय पदार्थ ह्यूमस व मिट्टी को एकसार करके जमीन के अंदर अन्य परतों में फैलाता हैं । इससे जमीन पोली होती है व हवा का आवागमन बढ़ जाता है तथा जलधारण क्षमता में बढ़ोतरी होती है। केंचुओं के पेट में जो रसायनिक क्रिया व सूक्ष्म जीवाणुओं की क्रिया होती है, जिससे भूमि में पाये जाने वाले नत्रजन, स्फुर एवं पोटाश एवं अन्य सूक्ष्म तत्वों की उपलब्धता बढ़ती हैं। वर्मी कम्पोस्ट में बदबू नहीं होती है और मक्खी एवं मच्छर नहीं बढ़ते है तथा वातावरण प्रदूषित नहीं होता है। तापमान नियंत्रित रहने से जीवाणु क्रियाशील तथा सक्रिय रहते हैं। वर्मी कम्पोस्ट डेढ़ से दो माह के अंदर तैयार हो जाता है। इसमें 2.5 से 3% नत्रजन, 1.5 से 2% स्फुर तथा 1.5 से 2% पोटाश पाया जाता है।
तैयार करने की विधि:

कचरे से खाद तैयार किया जाना है उसमें से कांच-पत्थर, धातु के टुकड़े अच्छी तरह अलग कर इसके पश्चात वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के लिये 10x4 फीट का प्लेटफार्म जमीन से 6 से 12 इंच तक ऊंचा तैयार किया जाता है। इस प्लेटफार्म के ऊपर 2 रद्दे ईट के जोडे जाते हैं तथा प्लेटफार्म के ऊपर छाया हेतु झोपड़ी बनाई जाती हैं प्लेटफार्म के ऊपर सूखा चारा, 3-4 क्विंटल गोबर की खाद तथा 7-8 क्विंटल कूड़ाकरकट (गार्वेज) बिछाकर झोपड़ीनुमा आकार देकर अधपका खाद तैयार हो जाता है जिसकी 10-15 दिन तक झारे से सिंचाई करते हैं जिससे कि अधपके खाद का तापमान कम हो जाए। इसके पश्चात 100 वर्ग फीट में 10 हजार केंचुए के हिसाब से छोड़े जाते हैं। केचुए छोड़ने के पश्चात् टांके को जूट के बोरे से ढंक दिया जाता हैं, और 4 दिन तक झारे से सिंचाई करते रहते हैं ताकि 45-50 प्रतिशत नमी बनी रहें। ध्यान रखे अधिक गीलापन रहने से हवा अवरूध्द हो जावेगी ओर सूक्ष्म जीवाणु तथा केंचुऐ मर जावेगें या कार्य नही कर पायेंगे।
45 दिन के पश्चात सिंचाई करना बंद कर दिया जाता है और जूट के बोरों को हटा दिया जाता है। बोरों को हटाने के बाद ऊपर का खाद सूख जाता है तथा केंचुए नीचे नमी में चले जाते है। तब ऊपर की सूखी हुई वर्मी कम्पोस्ट को अलग कर लेते हैं। इसके 4-5 दिन पश्चात पुन: टांके की ऊपरी खाद सूख जाती है और सूखी हुई खाद को ऊपर से अलग कर लेते हैं इस तरह 3-4 बार में पूरी खाद टांके से अलग हो जाती है और आखरी में केंचुए बच जाते हैं जिनकी संख्या 2 माह में टांके में, डाले गये केंचुओं की संख्या से, दोगुनी हो जाती हैं ध्यान रखें कि खाद हाथ से निकालें गैंती, कुदाल या खुरपी का प्रयोग न करें। टांकें से निकाले गये खाद को छाया में सुखा कर तथा छानकर छायादार स्थान में भण्डारित किया जाता है । वर्मी कम्पोस्ट की मात्रा गमलों में 100 ग्राम, एक वर्ष के पौधों में एक किलोग्राम तथा फसल में 6-8 क्विंटल प्रति एकड़ की आवश्यकता होती है। वर्मी वॉश का उपयोग करते हुए प्लेटफार्म पर दो निकास नालिया बना देना अच्छा होगा ताकि वर्मी वॉश को एकत्रित किया जा सकें
 
  केंचुए खाद के गुण -
  • इसमें नत्रजन, स्फुर, पोटाश के साथ अति आवश्यक सूक्ष्म कैल्श्यिम, मैग्नीशियम, तांबा, लोहा, जस्ता और मोलिवड्नम तथा बहुत अधिक मात्रा में जैविक कार्बन पाया जाता है ।
  • केंचुएँ के खाद का उपयोग भूमि, पर्यावरण एवं अधिक उत्पादन की दृष्टि से लाभदायी है।

BIO GAS SLURRY

बायोगैस संयंत्र में गोबर गैस की पाचन क्रिया के बाद 25 प्रतिशत ठोस पदार्थ रूपान्तरण गैस के रूप में होता है और 75 प्रतिशत ठोस पदार्थ का रूपान्तरण खाद के रूप में होता हैं। जिसे बायोगैस स्लरी कहा जाता हैं दो घनमीटर के बायोगैस संयंत्र में 50 किलोग्राम प्रतिदिन या 18.25 टन गोबर एक वर्ष में डाला जाता है। उस गोबर में 80 प्रतिशत नमी युक्त करीब 10 टन बायोगैस स्लेरी का खाद प्राप्त होता हैं। ये खेती के लिये अति उत्तम खाद होता है। इसमें 1.5 से 2 % नत्रजन, 1 % स्फुर एवं 1 % पोटाश होता हैं।
बायोगैस संयंत्र में गोबर गैस की पाचन क्रिया के बाद 20 प्रतिशत नाइट्रोजन अमोनियम नाइट्रेट के रूप में होता है। अत: यदि इसका तुरंत उपयोग खेत में सिंचाई नाली के माध्यम से किया जाये तो इसका लाभ रासायनिक खाद की तरह फसल पर तुरंत होता है और उत्पादन में 10-20 प्रतिशत बढ़त हो जाती है। स्लरी के खाद में नत्रजन, स्फुर एवं पोटाश के अतिरिक्त सूक्ष्म पोषण तत्व एवं ह्यूमस भी होता हैं जिससे मिट्टी की संरचना में सुधार होता है तथा जल धारण क्षमता बढ़ती है। सूखी खाद असिंचित खेती में 5 टन एवं सिंचित खेती में 10 टन प्रति हैक्टर की आवश्यकता होगी। ताजी गोबर गैस स्लरी सिंचित खेती में 3-4 टन प्रति हैक्टर में लगेगी। सूखी खाद का उपयोग अन्तिम बखरनी के समय एवं ताजी स्लरी का उपयोग सिंचाई के दौरान करें। स्लरी के उपयोग से फसलों को तीन वर्ष तक पोषक तत्व धीरे-धीरे उपलब्ध होते रहते हैं।

पपीते के पत्ते कैंसर को सिर्फ 35 से 90 दिन में सही कर सकते हैं।

पपीते के पत्तो की चाय किसी भी स्टेज के कैंसर को सिर्फ 60 से 90 दिनों में कर देगी जड़ से खत्म, पपीते के पत्ते 3rd और 4th स्टेज के कैंसर...